ओडिशा विधानसभा चुनाव परिणाम 2024: भाजपा ने 56 सीटों पर बनाई बढ़त, बीजद पीछे

ओडिशा विधानसभा चुनाव परिणाम 2024: भाजपा ने 56 सीटों पर बनाई बढ़त, बीजद पीछे जून, 4 2024

ओडिशा विधानसभा चुनाव परिणाम 2024: भाजपा की बड़ी बढ़त

ओडिशा विधानसभा चुनाव के परिणामों ने राजनीतिक गलियारों में खलबली मचा दी है। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने 56 सीटों पर बढ़त बनाकर सबको चौंका दिया है, जबकि बीजू जनता दल (बीजद) संघर्ष करती दिखाई दे रही है। अब तक के परिणामों के मुताबिक बीजेपी ने 24 सीटें जीत ली हैं, जबकि बीजद को 18 सीटें हासिल हुई हैं। यह परिणाम प्रदेश में बीजेपी के बढ़ते प्रभाव और बीजद की गिरती स्थिति को दर्शाता है।

कांग्रेस की स्थिति

कांग्रेस की स्थिति इस बार भी निराशाजनक रही है। पार्टी ने केवल दो सीटें जीती हैं लेकिन 12 विधानसभा क्षेत्रों में उम्मीदवार आगे चल रहे हैं। यह देखना दिलचस्प होगा कि कांग्रेस किसी चमत्कार से इन सीटों को बरकरार रख पाती है या नहीं। बीजेपी और बीजद के बीच कड़ी टक्कर के बीच कांग्रेस का यह प्रदर्शन अपनी रणनीतियों पर पुनर्विचार की मांग करता है।

नवीन पटनायक का प्रदर्शन

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, जो बीजद के सर्वेसर्वा हैं, इस बार कठोर संघर्ष का सामना कर रहे हैं। उनके लिए यह चुनाव विशेष रूप से चुनौतीपूर्ण रहा है क्योंकि वह कांताबांजी विधानसभा सीट पर पीछे चल रहे हैं, जबकि हिन्जिली सीट पर आगे हैं। पटनायक के राजनीतिक करियर के लिए यह चुनाव निर्णायक साबित हो सकता है, क्योंकि यह उनके नेतृत्व और संगठनात्मक क्षमता की परीक्षा है।

बीजेपी का प्रदर्शन

बीजेपी इस चुनाव में मजबूत प्रदर्शन कर रही है और उसने 56 सीटों पर बढ़त बना ली है। पार्टी ने अब तक 24 सीटें जीत ली हैं। इस प्रदर्शन से यह स्पष्ट हो जाता है कि बीजेपी ने ओडिशा में अपनी जड़ें मजबूत कर ली हैं और प्रदेश की जनता ने भी पार्टी को व्यापक समर्थन दिया है।

प्रमुख उम्मीदवार

इस चुनाव में कई प्रमुख उम्मीदवार मैदान में थे, जिनमें से कुछ ने जीत हासिल की है। इनमें प्रपात सरंगी, मंजू लता मंडल, सर्मिष्ठा सेठी और राजश्री मलिक शामिल हैं। यह उम्मीदवार न केवल अपनी पार्टी के लिए बल्कि अपने क्षेत्रों के विकास के लिए भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

चुनाव प्रक्रिया और मतदान

ओडिशा विधानसभा चुनाव चार चरणों में संपन्न हुआ था। मतदान 13 मई से 1 जून के बीच हुआ। इन चुनावों के साथ-साथ लोकसभा चुनाव भी आयोजित किए गए थे जिससे राजनीतिक माहौल और अधिक गरम हो गया था। चुनाव परिणामों पर व्यापक विचार-विमर्श और विभिन्न विश्लेषण जारी हैं।

एक्सिट पोल और भविष्यवाणियां

एक्सिट पोल के नतीजों ने भी इस बार मजबूत प्रतिस्पर्धा की भविष्यवाणी की थी। एक्सिट पोल के अनुसार, बीजेपी को 17-20 सीटें मिलने का अनुमान था जबकि बीजद 62-80 सीटें प्राप्त कर सकती थी। हालांकि, वास्तविक परिणाम अब तक कड़े मुकाबले को बयान कर रहे हैं, जिसमें बीजेपी ने उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन किया है।

निष्कर्ष और भविष्य का परिदृश्य

इस चुनाव परिणाम ने ओडिशा की राजनीति में महत्वपूर्ण परिवर्तन की शुरुआत की है। बीजेपी का उभरता प्रभुत्व और बीजद का संघर्ष दोनों ही प्रदेश की राजनीतिक दिशा को प्रभावित करेंगे। निकट भविष्य में आने वाले समय में और भी बदलाव देखने को मिल सकते हैं, जो प्रदेश की राजनीति को नया मोड़ देंगे।

अभिलेखागार